Ali Zaryoun Shayari – Chadar Ki Ijjat Karta Hoon

Best Ali Zaryoun Shayari in Hindi-English. If you want to get the best Shayari and share it with your friends then We are providing Latest Collection of Shayari.

Ali Zaryoun Shayari - Chadar Ki Ijjat Karta Hoon
Ali Zaryoun Shayari

चादर की इज्जत करता हूं और पर्दे को मानता हूं,
हर पर्दा पर्दा नहीं होता इतना मैं भी जानता हूं।

Chadar ki ijjat karta hoon aur parde ko maanta hoon,
Har parda parda nahi hota itna main bhi janta hoon.

अच्छी लड़की ज़िद नहीं करते,
देखो, इश्क बुरा होता है।

Acchi ladki zid nahi karte
Dekho,Ishq bura hota hai.

इसलिए तो मैं रोया नहीं बिछड़ते समय,
तुझे रवाना किया है, जुदा नहीं किया है।

Isliye toh main roya nahi bichadte samay,
Tujhe rawana kiya hai, Juda nahi kiya hai.

Ali Zaryoun Shayari

Ali Zaryoun Shayari - Chadar Ki Ijjat Karta Hoon
Ali Zaryoun Shayari

हम ऐसा कहने वाले जब तलक है,
ग़ज़ल बन्दूक पर भारी रहेगी।

Hum yesa kahne wale jab talak hai,
Ghazal banduk par bhari rahegi.

बात भी कीजिए देख भी लीजिए,
देख भी लीजिए बात भी कीजिए।

Baat bhi kijiye dekh bhi lijiye,
Dekh bhi lijiye baat bhi kijiye.

अदा-ए-इश्क़ हूँ पूरी अना के साथ हूँ मैं,
ख़ुद अपने साथ हूँ यानी ख़ुदा के साथ हूँ मैं।

Ada-ye-ishq hu puri ana ke saath hoon main,
Khud apne sath hoon yani khuda ke sath hoon main.

Ali Zaryoun Shayari - Chadar Ki Ijjat Karta Hoon
Ali Zaryoun Shayari

सब कर लेना लम्हे ज़ाया मत करना,
ग़लत जगह पर जज़्बे ज़ाया मत करना।

Sab kar lena lamhe jaya mat karna,
Galat jagah par jajbe jaya mat karna.

अस्र के वक़्त मेरे पास न बैठ,
मुझ पे इक साँवली का साया है।

Astra ke waqt mere pass n beth
Mujh pe ishq savli ka saya hai.

इश्क़ तो नीयत की सच्चाई देखता है,
दिल न झुके तो सज़दे ज़ाया मत करना।

Ishq toh niyaat ki sachai dekhta hai,
Dil n jhuke toh sajde jaya mat karna.

Ali Zaryoun Shayari

Ali Zaryoun Shayari - Chadar Ki Ijjat Karta Hoon
Ali Zaryoun Shayari

रोजी-रोटी देश में भी मिल सकती है,
दूर भेज के रिश्ते ज़ाया मत करना।

Roji-Roti desh main bhi mil sakti hai,
Dur bhej ke rishte jaya mat karna.

सादा हूं और ब्रैंड्स पसंद नहीं मुझ को,
मुझ पर अपने पैसे ज़ाया मत करना।

Sada hoon aur brands pasand nahi mujh ko,
Mujh par apne pesse jaya mat karna.

तुम्हें हुस्न पर दस्तरस है मोहब्बत – वोहब्बत बड़ा जानते हो,
तो फिर ये बताओ कि तुम उसकी आंखों के बारे में क्या जानते हो।

Tumhe husna par dastaras hai mohabbat-wohabbat bada jante ho,
Toh fhir ye batao ki tum uski aakhon ke bare main kya jante ho.

इन्हें भी जरूर पढ़ें:-

Gulzar Shayari

Rahat Indori Shayari

Zindagi Shayari

Leave a Comment